🌟हमें क्रांतिकारियों की जीवनशैली और उनके पदचिन्हों को अपने जीवन में ढालना चाहिए - जी.एस.बब्बर


🌟सहारनपुर में आयोजित रक्तकेन्द्र शुभारंभ के अवसर पर उन्होने कहा🌟

सहारनपुर ।  राष्ट्रसेवा, सद्भाव, सम्मान, स्वच्छता, शुद्धता एंव पारदर्शिता के प्रति संकल्पबद्ध रजिस्ट्रर्ड एनजीओ, वी सर्व इण्डिया द्वारा शहीदे -ए-आज़म भगत सिंह, शहीद राजगुरु एवं शहीद सुखदेव जी के महान बलिदान दिवस पर क्रांतिवीरों को समर्पित विशाल शहीदी रक्तांजलि मेेला, स्थानीय नवयुग पार्क, नुमाईश कैम्प, सहारनपुर में रक्तकेन्द्र एस.बी.डी. जिला चिकित्सालय, सहारनपुर के साथ मिलकर शुभारंभ किया गया। जिसमें अनेकों रक्तदाताओं ने शहीदों को नमन करते हुए अपना रक्तदान किया। 

एनजीओ के संस्थापक-अध्यक्ष, जी.एस.बब्बर ने बताया रक्तदान एक जीवन प्रदान करने वाली गतिविधि है। यही वजह है कि इसे ‘महादान’ कहा जाता है। आपके रक्त की बूंद का हर कतरा किसी के जीवन का स्रोत बन सकता है। इसकी कमी की वजह से किसी की जान न जाए, इसके लिए वी सर्व इण्डिया की ओर से हर वर्ष रक्तदान शिविर आयोजित किए जाते हैं। इसी श्रृंख्ला में आज एक रक्तदान शिवर का आयोजन शहीदे -ए-आज़म भगत सिंह, शहीद राजगुरु एवं शहीद सुखदेव जी के महान बलिदान दिवस पर क्रांतिवीरों को समर्पित विशाल शहीदी रक्तांजलि मेेला 2023 का आयोजन कर भारत माता के वीर सपूतों को सच्ची श्र(ाजंलि प्रदान की गई। उन्होंने बताया कि वर्तमान के युवाओं को भी राष्ट्र के प्रति अपने प्राणों की आहूति देने वाले को नमन कर राष्ट्र प्रेम की ज्योति को अपने कर्म, व्यवहार और हृदय में प्रकाशित करने का कार्य करना चाहिए। ऐसे महान शहीदों, क्रांतिकारियों की जीवनशैली और उनके पदचिन्हों को अपने जीवन में ढालना चाहिए। श्री बब्बर ने बताया कि इस रक्तदान शिविर से गरीब, असहाय व दुर्घटनाग्रस्त व्यक्तियों की सहायता सुनिश्चित होगी। दान किया हुआ रक्त अस्पताल के ब्लड बैंक, सहारनपुर में रखा जाएगा, जो जरूरतमंदों को यहां से उपलब्ध कराया जाएगा। इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए सामाजिक सरोकार की गतिविधियों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते आ रहे अनेकों समाज सेवियों को भी सम्मानित किया गया। उक्त शिविर की अध्यक्षता विजय कालड़ा पार्षद द्वारा सम्पन्न हुई। 

महासचिव विवेक चावला एंव कार्यक्रम संयोजक मदनपाल तेश्वर ने संयुक्त रुप से कहा कि सर्व प्रथम बधाई है उन रक्तदाताओं को जिन्होंने रक्तदान देकर ना जाने कितने ही असहाय लोगों की मद्द के लिए अपना हाथ आगे बढ़ाया। उल्लेखनीय है कि रक्तदान 18 से 60 वर्ष की आयु का कोई भी महिला या पुरुष कर सकता है। एक बार रक्तदान के बाद दूसरी बार रक्त देने के लिए 90 दिन का फासला होना जरूरी होता है। कोषाध्यक्ष सी.एस. छाबड़ा ने बताया कि हमारी एनजीओ ‘वी सर्व इण्डिया’ बिना किसी भेद-भाव के सर्व समाज को साथ लेकर निरन्तर सेवा कार्य कर रही है। एनजीओ समय-समय पर भूखों को खाना, कपड़ा और असहाय लोगांे को आवश्यक सामग्री आदि का वितरण करती आ रही है। 

इस रक्तदान श्वििर में कुछ सामाजसेवियों को सम्मानित किया गया जिनमें सर्वप्रथम श्रीमति अवनीत कौर, विशाल बजाज, गुलशन निरंकारी, मौ. जुनैद, एम.एस. बाजवा, स. अमरजीत सिंह ठेकेदार, विश्वास कांगड़ा, अन्नू बिरला, सुनील कुमार, अमित कुमार गोल्डी, विशाल धवन, श्रीमति राजरानी, श्रीमति सुशीला देवी, श्रीमति सपना, नानूराम, सतीश आदिवाल मुख्य रुप से उपस्थित रहे....।

टिप्पणी पोस्ट करा

0 टिप्पण्या